ये हमारा Archive है। यहाँ आपको केवल पुरानी खबरें मिलेंगी। नए खबरों को पढ़ने के लिए www.biharnewslive.com पर जाएँ।

रोहतास: दो अपहरणकर्ताओं को 40 लाख फिरौती की राशि के साथ किया गया गिरफ्तार

63

नीरज कुमार सिंह/रंजन कुमार
बिहार न्यूज लाइव@रोहतास

रोहतास पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी और उसने दो अपहरणकर्ताओं को 40 लाख फिरौती के राशि के साथ गिरफ्तार कर लिया है। मध्य प्रदेश के रीवा से 23 जुलाई को हार्डवेयर कारोबारी संत बहादुर सिंह का अपहरण हुआ था। जिसे शनिवार को मुजफ्फरपुर से बरामद किया गया। वहीं रोहतास जिला के शिवसागर के पास से इन अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया। वारदात के बारे में रोहतास के एसपी सत्यवीर सिंह ने बताया कि 23 जुलाई को रीवा के युवा हार्डवेयर कारोबारी 32 वर्षीय संत बहादुर सिंह का एक गिरोह ने उनका कार सहित अपहरण कर लिया था।

उसके बाद मध्य प्रदेश पुलिस के लिए पूरा मामला सरदर्द बन गया था। बाद में छानबीन में पता चला कि अपराधी कारोबारी को बिहार के तरफ लेकर भागे हैं। बाद में कारोबारी का कार उत्तर प्रदेश के चुनार से बरामद किया गया तथा फिरौती की राशि 40 लाख मांगा गया। जिसे अपराधियों ने परिजनों को धमकाकर मुंबई-हावड़ा ट्रेन में फिरौती की राशि को लेकर चढ़ जाने को बोला। पुलिस तब तक पूरे मामले को संचालित कर रही थी। परिजन जब सासाराम से मुगलसराय की ओर ट्रेन में पैसे लेकर बैठे तो अपराधियों का फोन आया कि शिवसागर रेलवे स्टेशन के पास पैसे से भरा बैग फेंक दिया जाए। जैसे ही अपहरणकर्ताओं ने ट्रेन से फेके गये बैग को उठाया। पहले से रेकी कर रहे सादे लिबास में रोहतास पुलिस ने दो अपराधियों को धर दबोचा।

जिनके पास से फिरौती के 40 लाख के अलावे एक पिस्टल तथा कारतूस बरामद किए गए। गिरफ्तार अपराधी नारायण लोहार मध्यप्रदेश के इंदौर का है तथा दूसरा बलिंदर कुमार औरंगाबाद के मदनपुर का रहने वाला है। इन दोनों के निशानदेही पर मुजफ्फरपुर से अपहृत संत बिहारी सिंह को बरामद किया गया। साथ ही तीन अपहरणकर्ताओं को मुजफ्फरपुर से पकड़ा गया। मुजफ्फरपुर से पुलिस की वर्दी तथा अन्य सामान भी बरामद किए गए हैं। गौरतलब है कि यह अपराधियों का गिरोह बिहार में पहले भी कई वारदातों को अंजाम दे चुका है। गया में डॉक्टर दंपति तथा सासाराम के एक ठेकेदार के अपहरण में भी इन लोगों की संलिप्तता थी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More