ये हमारा Archive है। यहाँ आपको केवल पुरानी खबरें मिलेंगी। नए खबरों को पढ़ने के लिए www.biharnewslive.com पर जाएँ।

पूर्णिया:कप्तानपाड़ा भूमि विवाद में खूनी रंजिश के बाद दोनों पक्षों ने थाना में मामला दर्ज कराया

162

 कप्तानपाड़ा भूमि विवाद में खूनी रंजिश के बाद दोनों पक्षों ने थाना में मामला दर्ज कराया

– मामला दर्ज करने के बाद जांच में जुटी पुलिस
– थानाध्यक्ष ने कहा दोषी बख्शे नहीं जाएंगे

लगन कुमार, जिला ब्यूरो, पूर्णिया : शुक्रवार को अबदुल्लानगर के कप्तानपाड़ा में भूमि विवाद को लेकर दो पक्षों में हुई खूनी रंजीत के बाद दोनों ओर से सदर थाना में प्राथमिकी दर्ज कारवाई गई है। सदर थानाध्यक्ष जितेंद्र राणा ने पुष्टि करते हुए कहा है कि दोनों ओर से प्राथमिकी दर्ज करवाई गई है। सदर कांड संख्या 565/18 में सदर अस्पताल में इलाजरत घायल श्रीकांत गुप्ता ने 13 नामजद व 30- 40 लोगों पर प्राथमिकी दर्ज करवाई है।

सदर अस्पताल में भर्ती प्रथम पक्ष के श्रीकांत गुप्ता

वहीं कांड संख्या 566/18 में जितेन्द किस्कू ने 1 नामजद और 3 अज्ञात लोगों पर प्राथमिकी दर्ज कारवाई है। उन्होंने कहा कि दोनों मामला दर्ज करने के बाद अनुसंधान शुरु कर दिया है। जो भी दोषी होगें उन्हें बक्सा नहीं जाएगा।
जब इस संदर्भ में सदर अस्पताल में इलाजरत बेलौरी के गोढ़ी टोला निवासी

सदर अस्पताल में भर्ती प्रथम पक्ष के अरविंद साह

श्रीकांत गुप्ता से घटना के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जब वह शुक्रवार की सुबह अपना खेत देखने गए थे तब वहां पहले से मौजूद राजीव यादव, श्याम पासवान व बबलू सोरेन थे, उसमें से श्याम पासवान ने कहा कि इस जमीन का जो भी विवाद है आज शाम को आनंदनगर निवासी शशि सिंह के घर पर बैठ कर निपटा लेंगे। हम भी उन लोगों को कहें कि ठीक है अगर सुलह से किसी समस्या का समाधान हो जाय, तो उसमें कोई दिक्कत नहीं है।

….भूमि विवाद में 10- 12 राउंड चली गोलियां….

करीब 2:30 बजे दिन में उन्हें सूचना मिली कि खेत में बहुत लोग हैं। वे लोग किल्ला- खुट्टा तथा टट्टी लेकर आये हैं। लगता है वे लोग आपका खेत पर कब्जा करने के लिए आये हैं। तब वह वहां अपने भाई और चाचा सदानंद साह के साथ पहुंचे तो देखा कि लगभग 30- 40 की संख्या में खेत पर बाहरी लोग खड़े थे, जिसके हाथ में लाठी- डंडा, रॉड आदि था, उन्हें वहां का माहौल ठीक नहीं लगा। दूसरे पक्ष के लोग कहने लगे कि यह जमीन उनका है। इस पर हमलोंगों को चढ़ने नहीं देंगे। वह उनलोंगों से कहे कि यह जमीन हमलोगों का है उसका केवाला है। जिसपर वे लोग कहने लगे कि तुमको बताते हैं कि जमीन किसका है और यह कह कर राजीव यादव अपने पॉकेट से पिस्तौल निकाल लिया और कहा कि न बचेगा बांस, न बजेगा बांसुरी। उनपर गोली चलाने लगे। उस बीच जो भी आये उनको उनके साथ जो लोग सब थे, लाठी डंडा से अंधाधुन मारने लगे। इसमें उनके मित्र अरविंद साह का सर फट गया। उसके बाद उनके भाइयों पर वे लोग टूट पड़े। जिससे उसके मंझोले भाई रजनी गुप्ता घायल हो गए। वहीं उनलोगों ने उनके छोटे भाई पर गोली चलाया जो उसके कान को छुते हुए निकल गई। वहीं एक गोली मेरे सर को छूती हुई निकल गई। वे भागते रहे उन पर लगातार गोली चलाया जाता रहा और वे कई बार गोली का शिकार होने से बच गए। उन्होंने कहा कि यहां चार पांच लोगों के पास पिस्टल था, जिसमें से 10- 12 राउंड गोली चलाई गई। जिसमें कुछ हवाई फायरिंग भी हुई थी।

……वीडियोग्राफी करने गए पत्रकार का कैमरा तोड़ा…..

घायल अरविंद साह ने बताया कि उन लोगों को जब मारा जा रहा था तब कोसी आलोक चैनल के रिपोर्टर संजय कुमार इसकी रिकॉर्डिंग कर रहे थे, इन लोगों ने उनपर भी हमला कर उनका कैमरा तोड़ दिया। जब कोसी आलोक चैनल के संजय कुमार से संपर्क साधा गया, तो उन्होंने कहा कि यह खूनी रंजिश भूमि विवाद को लेकर यह घटी थी। जिसमें उनको दूसरे पक्ष के लोगों ने ही बुलाया था परंतु जब दूसरे पक्ष द्वारा मारपीट की घटना होने लगी तब वे इसका वीडियो रिकॉर्डिंग करने लगे। तब राजीव यादव के पक्ष के लोग वीडियो रिकॉर्डिंग रोकने को लेकर उन पर हमला कर दिया जिसमें उनका कैमरा नीचे गिर गया और उनका बैटरी टूट गया। जब उनसे पूछा गया कि वहां गोलीबारी की घटना हुई थी, तो उन्होंने कहा कि वह एक गोली की आवाज सुने थे। परंतु वे लोग इतनी हमलावर हो गए थे कि मैं अपनी जान बचाकर वहां से निकला। वहां और कितने राउंड गोली चली यह ठीक ठीक वह नहीं बता सकते हैं।
यहां बता दें कि दूसरे पक्ष के जितेंद्र किस्कू घायल होकर सदर अस्पताल में भर्ती हुए थे परंतु संध्या के समय वह अस्पताल में नहीं थे इसलिए उनका पक्ष नहीं लिया जा सका।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More